तस्वीर हूँ तेरी

foto 122मेरे हर कण में है समायी तू
हो कर दूर मुझसे है तू जुदा कहाँ
मेरे हर आँसू मे है साथ तू रोई
हर ख्वाब की है ताबीर तू
हर सोच की है नीव तू
समायी है रग रग में
बही हर बूँद में
मेरे रूप मे स्वरूप में
मेरे हाव मे और भाव मे
मेरी क्रिया में प्रतिक्रिया मे
माँ , तेरी ही तो हूँ
बस इक तस्वीर मै…

Advertisements