अहसास

दर्द अब दिल को तड़पाता भी नहीं
रातों को नीन्दों से जगाता भी नहीं
वक्त ने ज़ख़्म भर दिए हैं शायद
पर ये खा़ली सा अहसास जाता भी नहीं

2 विचार “अहसास&rdquo पर;

  1. बहुत खूब. सुन्दर अभिव्यक्ति है.

    2016-04-02 21:57 GMT-07:00 mridulkhanduri :

    > mriudulkhanduri posted: “दर्द अब दिल को तड़पाता भी नहीं रात को नीन्दों से
    > जगाता भी नहीं वक्त ने ज़ख़्म भर दिए हैं शायद पर ये खा़ली सा अहसास जाता भी
    > नहीं”
    >

    Liked by 1 व्यक्ति

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s