तुम आ ही जाती हो

 

तुम आ ही जाती हो
कभी मेले में तो कभी अकेले मे
कभी चुपके से तो कभी रेले में
तुम आ ही जाती हो
कभी दरवाजे से तो कभी किसी कोने से
सुबह की धूप सी तो कभी अघजगी रातों से
तुम आ ही जाती हो
पुरानी धुन सी कभी
तो सावन में झूलों सी कभी
तुम आ ही जाती हो
आँखों की निपोरो मे कभी
हँसी की गुदगुदी में कभी
तुम आ ही जाती हो
बीते हुए लम्हों की यादें
तुम आ ही जाती हो

 

 

 

Advertisements

2 विचार “तुम आ ही जाती हो&rdquo पर;

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s