कारावास

 

altAkXjvzANn_XXUzpsf8a4yZroxw0gj24F7AyPSWZq7lfa_jpg

क्यों सीमाओं में बंधते हो
कभी जात की कभी धर्म की
क्यों बाँधा हैं खुद को
देश में कभी समाज में
जकड़ा हैं स्वयं को
कभी उम्र में कभी ओहदे में
कभी मोह में कभी ऐश्वर्य में
कभी काले में तो कभी गोरे में
कभी स्त्री में  कभी पुरुष मे
खुद ही अपने को बाँध लिया
बड़े में तो कभी छोटे मे
न होता यह सब
तो उड़ते स्वच्छंद हम भी आकाश में
बस मन का ही तो फेर था
और डर का ही तो खेल था
इक जीना ही तो था
क्या पा लिया विकास से
घरौंदे छोटे होते गये
इस गोले से बाहर तक तो निकल न सके
इक दूजे पर गोलियां चलाना और सीख गये
इतने ही काबिल थे तो जहान बनाते नये
और छोटे होते गए दायरे
कभी भाषा के तो कभी संस्कार के
मन जकडता गया
छोटे होते  में कारावास में

तकदीरें

तकदीरें बदला नही करती
वक्त के साथ भर जाता है घाव
रफ्तार जिन्दगी की रुका नही करती
लकीरें हथेली की घिस जाती हैं
नियति फिर भी पलटा नही करती
थक जाते हैं मन पाँव शरीर
मंजिले अपनी जगह से हिला नहीं करती
सूख जाते हैं सागर दरिया
सूरज की गर्मी कम हुआ नही करती
धूप ढल जाती है जीवन की मु्ंड़ेर से
परछाईं यादों की साथ छोड़ा नही करती
जिन्दगी तकदीरों से लड़ा नहीं करती
क्योंकि
तकदीरें ऐ दोस्त बदल नही करतीDSCN7098

त्यागी सीता ही जायेंगी

त्यागी क्यों हे राम
हर हाल में
सीता ही जायेंगी
परीक्षा की अग्नि में
तपकर भी
सोना न हो पायेगी
अपनों को त्यजकर
संग तुम्हारे वह आयेगी
राजसी वैभव त्याग
संग तुम्हारे वन को भी जायेंगी
त्यागी क्यों हे राम
हर हाल में , पर
सीता ही जायेंगी
चाहे तेज से अपने
मर्यादा तुम्हारी बचायेगी
जब भी लक्ष्मण की रेखा
लाँघकर सीता कोई जायेगी
नियति  यह ही हरबार
जग में दोहराई जायेगी
त्यागी हर हाल में तो
हे राम, सीता ही जायेंगी

हसरतें कभी मंज़िल न हुई

IMG_0879रातें मेरी जिंदगानी न हुई
बातें तेरी कहानी न हुई
फासलों के सिलसिले ही रहे
हसरतें कभी मंज़िल न हुई

दर्द की कद्रदानी न हुई
खुशियों की निगहबानी न हुई
लबों पे तंज़ अटके ही रहे
आँखों की हँसी से यारी न हुई

नींदो की खुमारी न हुई
सपनों की राजदारी न हुई
ख्वाब दहलीज़ पर ठिठके से रहे
सुबह की किसी को इन्तज़ारी न हुई

Hero within

WP_20150601_001

I don’t know if I have a hero within me or not or how I’ll ever find it but I do know everyone has one within them. Everyone has that one hero within them who refuses to stop, who refuses to give up even when the world is falling apart. The one who will hold onto every dream he believes in no matter what happens. We all have that hero somewhere within us maybe he is running in our blood talking to us through our pulse making us aware of his presence telling us we have a reason to hold on, we have a reason to keep trying, to keep moving forward. We all have him. But the thing is I don’t know how we discover him. He is there
in our thoughts when everything is going down in the dark abyss and sometimes we too fall in it but our hero makes us climb that wall again. Maybe he lives in our thoughts and conscience who can make us leave our selfish choices for someone else. Who can make us forget what grudges are. Someone who knows it’s not our journey alone, we’ll have to help each other out, learn from each other and respect each others. Maybe we don’t really have to find him maybe all we need to do is believe in him, believe in our hero. The hero that runs in our veins, speaking to us through pulse. Living in our conscience, telling us good will always prevail. Telling us we can’t lose hope or stop believing in good because now the moon is hidden, it will come out again till then just believe. Telling us that we all can do something greater than the world said our aim was, maybe we can decide that for ourselves. We all are heroes, somehow or another, for ourselves or others, but we are. We all save someone from that bitter loneliness if not a city or world. We all climb heights to reach our dreams if not fly. We all are someone who can bring a change to the harsh and messy reality. We all can set examples why we have to keep moving forward and most importantly why we need to believe in ourselves. We already are heroes. Maybe i’m wrong but I don’t think we can save anyone without dragging ourselves out from that hatred, jealousy and negative thoughts which we somehow let overpower us.
…Mimansa..

Again

IMG4AEDHey let’s start again. Again from the bottom of the pit. Again from hell. Again from the burn, pain and guilt. Let’s start again. Let’s walk through this hell again. You may kick me, push me, punch me, throw me off the edge but trust me you won’t like the battle when I’ll come up. Because this time I’m not going back. I’ll be around when you’ll need me but don’t push me. I’ve learned to fight with beasts worse than fear and you don’t know what they are like. I’ve been there for too long. It’s time to come up. And I’ll be fine once again to fall in there because I have made quite a few friends there. But I won’t go back. It’s my fight now, my journey and my turn. I’ll walk the way on my own cuz I know how to survive the burn, the pain and the heartbreaks. I will still be fine when I’ll get these heartbreaks and pain. I’ll be fine. I’ll walk again. And when you’ll push me I’ll stand up again. After all people are always scared of the one who stood up again.
mimansa..

आस

कहा जिन्दगी के अन्धेरो ने
मेरे घर के जलते दियों से
बुझाने तुम्हें मैं आऊंगा हर रात
जलते रह सको है कहाँ तुममें वह बात
दिया मेरा फड़फड़ाता रहा
तेल और बाती का था उसको साथ
अन्धेरों ने हवाओं को था भेजा
जूझता रहा दिया मेरा
आस का थाम हाथ
सवेरे का उसको सहारा था
समय ने इक वादा जो निभाना था
न रहूँगा एकसा हरदम
अन्धेरों के बाद
तो रोशनी को ही आना  था …..

करते तो क्या करते

ख्वाहिशों ने जीने न दिया
तमन्नाओं ने मरने न दिया
यादों ने सोने न दिया
ख्वाबों ने जगने न दिया
करते तो क्या करते
दर्द ने हँसने न दिया
और
आस ने रोने न दिया

निशान

हर ज़ख़्म रूह पर निशान छोड़ गया
हर घाव शख्सियत हमारी बदल गया
ढूंढने पर भी न पा सके खुद को
अक्स भी अपना पराया हो गया
न जाने वक्त बदल गया
कि आइना बदल गया