भक्ति राग

मन्त्रमुग्ध तुम स्वयं पर
मस्त अपनी विजय पर
भूल धरातल को तुम
उड़ोगे ऊँचे आसमान में
खुद के ही शोर से
बहरे होते तुम
शब्द अब तर्क के
सुनाई तुम्हें देते नही
कर्णप्रिय लगते तुम्हें
केवल स्वयं के भक्ति राग
अपने ही गढे झूठ में
सही गलत से दूर तुम

 

Advertisements

अच्छा होता है

भीड़ से पीछे रह जाना
भी कभी अच्छा होता है
हर रिश्ता खुशी ही दे
यह ज़रूरी तो नहीं
कुछ रिश्तों को राह
मे छोड़ जाना
भी कभी अच्छा होता है
हर आँख तुम्हें सही तौले
ये ज़रूरी तो नहीं
इन तराजू से दूर
खुद को कर पाना
भी कभी अच्छा होता है
भीड़ के संग बहक जाना
ये ज़रूरी तो नहीं
गलत हो कदम तो
पाँव को अपने थाम लेना
भी कभी अच्छा होता है

बिझड़ने से ही लोग
जुदा नही होते
पास होकर भी ऐ दोस्त
फ़ासले बहुतेरे हैं
दरियाओं से ही सिर्फ
समन्दर नहीं बनते
इन आँखों से भी बहे
सागर बहुतेरे हैं
आग से ही नही जले
आशियाने दुनिया में
शक ने भी  किये खाक
रिश्ते बहुतेरे हैं

कैसे ??

दरख्तों से शाखाओं को
भाषा से अल्फा़ज़ो को
हटाओगे कैसे
संस्कार से आदाब को
शिक्षा से किताब को
सुर से रियाज़ को
कहानी से आगाज़ को
जुदा करोगे तो कैसे
कमीज़ को या पतलून को
मौज़ो को या रूमाल को
छोड़ोगे क्या क्या
हिम्मत तो की है बहुत तुमने
पर रच बस गया है सब अन्दर तक
जाने अनजाने घुल गया है सब
करोगे अलग
तो थोड़ा अपना भी गवाओगे
हृदय से ईमान को
जिन्दगी से प्रान को
दोस्ती से विश्वास को
इन्सान से आस को
पड़ोसी से ऐतबार को
और हर रिश्ते से प्यार को…

न जीत मेरी न हार मेरी

जीत तेरी तो हार भी तेरी
मंजिल तेरी तो राह भी तेरी
नियति मेरी तो है इच्छा तेरी
सुख की और दुख की
है जीवन में मेरे सब चालें तेरी
आँसू मेरे है बस नादानी मेरी
प्रयास मेरा है जिम्मेदारी मेरी
न शरीर मेरा और न साँसे मेरी
अस्तित्व मेरा तो है बस इक कृति तेरी
सबकुछ है तेरा और है लीला भी तेरी
समर्पण हो मेरा तो है मुक्ति भी मेरी …

प्यार मेरा हार गया …once again(फिरसे)

प्यार ले मै अपना
द्वार से तुम्हारे निकल आया
घृणा तुम्हारी संग चली कुछ दूर
हारी थकी अकेली सी फिर लौट गई
राह हुई फिर अलग हमारी
तुम्हारे संग घृणा तुम्हारी
हमने तो प्यार हमारा
समेट लिया कतरा कतरा
मन था शान्त चितत् थोड़ा उदास
कहीं दुख तो न हुआ होगा तुम्हें
देख खुद से दूर जाते हमें
प्यार भी टपका अश्रु बन आँखों से मेरे
पर सींच न पाया घृणा के काँटे तेरे
घृणा तुम्हारी लौटेगी तुमतक
हो बलवान अधिक
और प्यार मेरा सिमटेगा मुझतक
जीतेगा कौन और हारा कौन
गूँजेगा प्रश्न यही
अब सदी दर सदी…

नियति का खेल

यूँ तो तेरा प्यार
इक बहाना था
नियति का खेल
बड़ा ही निराला था
कुछ तुम्हारी मज़बूरिया थी
कुछ हमें भी फ़र्ज़ निभाना था
मंजिलों को चले तो थे साथ मगर
इन रास्तों ने हमें भटकाना था
और कुछ तो रफ्तार तुम्हारी तेज़ थी
कुछ काँटों ने भी दामन मेरा उलझाना था
यह नियति का खेल
बड़ा ही निराला था
बस तेरा प्यार
ही एक सहारा था