भक्ति राग

मन्त्रमुग्ध तुम स्वयं पर
मस्त अपनी विजय पर
भूल धरातल को तुम
उड़ोगे ऊँचे आसमान में
खुद के ही शोर से
बहरे होते तुम
शब्द अब तर्क के
सुनाई तुम्हें देते नही
कर्णप्रिय लगते तुम्हें
केवल स्वयं के भक्ति राग
अपने ही गढे झूठ में
सही गलत से दूर तुम

 

Advertisements

अच्छा होता है

भीड़ से पीछे रह जाना
भी कभी अच्छा होता है
हर रिश्ता खुशी ही दे
यह ज़रूरी तो नहीं
कुछ रिश्तों को राह
मे छोड़ जाना
भी कभी अच्छा होता है
हर आँख तुम्हें सही तौले
ये ज़रूरी तो नहीं
इन तराजू से दूर
खुद को कर पाना
भी कभी अच्छा होता है
भीड़ के संग बहक जाना
ये ज़रूरी तो नहीं
गलत हो कदम तो
पाँव को अपने थाम लेना
भी कभी अच्छा होता है

कारावास

 

altAkXjvzANn_XXUzpsf8a4yZroxw0gj24F7AyPSWZq7lfa_jpg

क्यों सीमाओं में बंधते हो
कभी जात की कभी धर्म की
क्यों बाँधा हैं खुद को
देश में कभी समाज में
जकड़ा हैं स्वयं को
कभी उम्र में कभी ओहदे में
कभी मोह में कभी ऐश्वर्य में
कभी काले में तो कभी गोरे में
कभी स्त्री में  कभी पुरुष मे
खुद ही अपने को बाँध लिया
बड़े में तो कभी छोटे मे
न होता यह सब
तो उड़ते स्वच्छंद हम भी आकाश में
बस मन का ही तो फेर था
और डर का ही तो खेल था
इक जीना ही तो था
क्या पा लिया विकास से
घरौंदे छोटे होते गये
इस गोले से बाहर तक तो निकल न सके
इक दूजे पर गोलियां चलाना और सीख गये
इतने ही काबिल थे तो जहान बनाते नये
और छोटे होते गए दायरे
कभी भाषा के तो कभी संस्कार के
मन जकडता गया
छोटे होते  में कारावास में

तकदीरें

तकदीरें बदला नही करती
वक्त के साथ भर जाता है घाव
रफ्तार जिन्दगी की रुका नही करती
लकीरें हथेली की घिस जाती हैं
नियति फिर भी पलटा नही करती
थक जाते हैं मन पाँव शरीर
मंजिले अपनी जगह से हिला नहीं करती
सूख जाते हैं सागर दरिया
सूरज की गर्मी कम हुआ नही करती
धूप ढल जाती है जीवन की मु्ंड़ेर से
परछाईं यादों की साथ छोड़ा नही करती
जिन्दगी तकदीरों से लड़ा नहीं करती
क्योंकि
तकदीरें ऐ दोस्त बदल नही करतीDSCN7098

आस

कहा जिन्दगी के अन्धेरो ने
मेरे घर के जलते दियों से
बुझाने तुम्हें मैं आऊंगा हर रात
जलते रह सको है कहाँ तुममें वह बात
दिया मेरा फड़फड़ाता रहा
तेल और बाती का था उसको साथ
अन्धेरों ने हवाओं को था भेजा
जूझता रहा दिया मेरा
आस का थाम हाथ
सवेरे का उसको सहारा था
समय ने इक वादा जो निभाना था
न रहूँगा एकसा हरदम
अन्धेरों के बाद
तो रोशनी को ही आना  था …..

करते तो क्या करते

ख्वाहिशों ने जीने न दिया
तमन्नाओं ने मरने न दिया
यादों ने सोने न दिया
ख्वाबों ने जगने न दिया
करते तो क्या करते
दर्द ने हँसने न दिया
और
आस ने रोने न दिया

निशान

हर ज़ख़्म रूह पर निशान छोड़ गया
हर घाव शख्सियत हमारी बदल गया
ढूंढने पर भी न पा सके खुद को
अक्स भी अपना पराया हो गया
न जाने वक्त बदल गया
कि आइना बदल गया