मन्थन

मन्थन तो होगा ही
अमृत भी निकलेगा
और विष भी
बस विषपान करने को
कोई नीलकंठ न होगा
थोड़ा थोड़ा हम सब को
ही विष चखना होगा
कुछ बौरायेंगे
कुछ बहकेंगे
संभलना भी होगा
संभालना भी स्वयं ही होगा
अमृत के प्रकट होने तक

Advertisements

2 विचार “मन्थन&rdquo पर;

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s